अंकारा 07 अगस्त (रायटर) ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सोमवार को अमेरिका द्वारा नये प्रतिबद्ध लगाये जाने से कुछ घंटे पहले दिये गये अमेरिका के बातचीत के प्रस्ताव को ठुकरा दिया।
अमेरिका ने ईरान को बातचीत का प्रस्ताव देते हुए कहा था कि ईरान के पास नये प्रतिबंधों से बचने का एकमात्र रास्ता यह है कि वह अपने परमाणु और मिशाइल कार्यक्रमों को छोड़कर बातचीत के लिए राजी हो जाए।

श्री रूहानी ने टेलीविजन भाषण में कहा कि जब तक अमेरिका वर्ष 2015 के ईरान परमाणु समझौते की शर्तों को नहीं मानता उसके साथ बातचीत नहीं की जा सकती।

श्री रुहानी ने कहा, “अगर आप किसी को चाकू घोंपकर कहो कि आप बातचीत करना चाहते हो इसके लिए पहले आपको चाकू को हटाना होगा। हम हमेशा से राजनयिक संबंधों और बातचीत के पक्ष में रहे हैं लेकिन बातचीत के लिए ईमानदारी की आवश्यकता होती है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी चुनावों को देखते हुए और ईरान में अराजकता पैदा करने के मकसद से बातचीत का प्रस्ताव रखा है।”