लखनऊ 10 अगस्त (वार्ता) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में उत्तर प्रदेश के परंपरागत उत्पादों को नई पहचान दिलाने के लिए शुरू की गई “एक जिला एक उत्पाद” (ओडीओपी) योजना को पंख लगाने के इरादे से राजधानी लखनऊ में आयोजित तीन दिवसीय समिट का शुभारम्भ किया।

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम के कारोबारियों की यह समिट परंपरागत उद्योगों को बढ़ावा देने के साथ एक जिला एक उत्पाद योजना के लिये मील का पत्थर साबित होगी। ओडीओपी योजना इसी साल 24 जनवरी काे उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर शुरू की गई थी, जिसका उद्घाटन उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने किया था।

श्री कोविंद ने दीप प्रज्वलित कर समिट का शुभारंभ किया। इस अवसर पर राज्यपाल राम नाईक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सत्यदेव पचौरी मौजूद थे।

श्री कोविंद ने राज्य के गोरखपुर, आगरा और मुरादाबाद समेत राज्य के विभिन्न जिलों से आए चुनिंदा लाभार्थियों को ऋण पत्र वितरित किए। वाराणसी,गोरखपुर,मुरादाबाद,आगरा और कानपुर के लाभार्थियों ने इस मौके पर अपने अनुभव राष्ट्रपति के साथ साझा किये। इस कार्यक्रम का सजीव प्रसारण समूचे राज्य में किया गया।

इससे पहले राष्ट्रपति ने एक जिला एक उत्पाद योजना के तहत तीन दिवसीय प्रदर्शनी का अवलोकन किया और दस्तकारो शिल्पकारों एवं उद्यमियों से उनके उत्पाद के बारे में जानकारी हासिल की।