गया 10 अगस्त (वार्ता) बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने गिरती-विधि व्यवस्था के विरोध में आज गया बंद कराया।
राजद के बंद में कांग्रेस, हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम), लोकतांत्रिक जनता दल सहित अन्य राजनीतिक संगठनों के कार्यकर्ता एवं नेता शामिल हुए। विभिन्न पार्टी के नेता और कार्यकर्ता स्थानीय गांधी मैदान में इक्ट्ठा हुए और वहां एक जुलूस निकाला। यह जुलूस गया शहर के विभिन्न चौक-चौराहों से होते हुए टावर चौक पहुंचा। बंद समर्थकों ने इन मार्गो में पड़ने वाले शहर की सभी दुकानों को बंद करा दिया। साथ ही यातायात को भी रोक दिया।

बंद में शामिल राजद विधायक डॉ. सुरेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जनता की समस्याओं को लेकर शहर को बंद कराया गया है। जिले में लूट, हत्या, छिनतई, बलात्कार की घटनायें आम हो गई है। व्यवसाईयों को दिनदहाड़े गोली मार दी जा रही है और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है। जब पुलिस-प्रशासन नहीं सुनने को तैयार है, तो बंद का आह्वान किया गया है। ऐसे में यदि प्रशासन ने इजाजत नहीं दी है तो आंदोलन करने के लिए किसी इजाजत की जरूरत नहीं है। हमारा बंद शांतिपूर्ण तरीके से है ।

वही, राजद जिलाध्यक्ष मोहम्मद मुर्शीद उर्फ नेजाम ने कहा कि महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस और लोकनायक जयप्रकाश नारायण को भी आंदोलन करने की इजाजत नहीं दी गयी थी। बावजूद इसके वे लोग आंदोलन करते थे। उन्हीं के तर्ज पर यह बंद कराया गया हैं।भले ही प्रशासन इजाजत न दे। लेकिन हमारा बंद शांतिपूर्ण तरीके से हैं। बंद को चेंबर ऑफ कॉमर्स, ऑटो चालक संघ, छात्रसंघ सहित कई संगठनों ने अपना समर्थन दिया है। यही वजह है कि आज संपूर्ण गया बंद है।

इस बीच बंद को देखते हुए प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये हैं। साथ ही प्रमुख चौक-चौराहों पर पर्याप्त पुलिस बल की व्यवस्था की गई है।