नयी दिल्ली 07 अगस्त (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर ‘अच्छे दिन’ का वादा पूरा नहीं करने, भ्रष्टाचार मिटाने, महंगाई रोकने तथा सुशासन देने में पूरी तरह असमर्थ रहने का आरोप लगाते हुए कहा है कि देश की जनता की उम्मीदों को बनाये रखने तथा इस सरकार का मजबूत विकल्प देने के लिए कांग्रेस को पूरी ताकत के साथ काम करने की जरूरत है।

श्री गांधी ने मंगलवार को कांग्रेस संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है, देश की अर्थव्यवस्था लड़खड़ा गयी है, शासन प्रशासन लुंजपुंज हो गया है और समाज में विभाजन की स्थिति पैदा की जा रही है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने चार साल पहले देश की जनता से जो वादे किए थे, उन्हें पूरा करने में उसकी सरकार पूरी तरह विफल हो गयी हुयी है और देश इस सरकार का विकल्प चाहता है इसलिए कांग्रेस को जनता को सशक्त विकल्प देने की दिशा में संघर्ष करने की जरूरत है।

श्री गांधी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकारों ने देश को समग्ररूप से सशक्त बनाने के लिए जिन संस्थानों का गठन किया था, भाजपा की सरकार ने उन्हें कमजोर बना दिया है। आधुनिक भारत के लिए इन संस्थानों को लोकतंत्र का मंदिर कहा जाता है लेकिन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ तथा भाजपा ने इन्हें ध्वस्त कर दिया है। हर संस्थान में आरएसएस के लोगों को भरा जा रहा है और संस्थान की मूल अवधारणा को बदला जा रहा है।

उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि देश में नफरत फैलाने वाली विभाजनकारी शक्तियों, संविधान से छेड़डाड़ करने तथा हिंसा को बढावा देने वाली ताकतों काे दोबारा सत्ता में आने से रोकना है और किसानों, युवाओं तथा पीड़ितों की उम्मीदों को बरकरार रखना है।